Posts

Showing posts from February, 2014

हिन्दी कविता मंच : माँ ...........तेरे जाने के बाद

तेरे जाने के बाद:
जब मै जन्मा तो मेरे लबो सबसे पहले तेरा नाम आया,
बचपन से जवानी तक हर पल तेरे साथ बिताया.
लेकिन पता नहीं तू कहा चली गयी रुशवा होकर,

मैं नहीं चाहता प्रिय-- राघवेन्द्र त्रिपाठी "राघव"

इस अनजाने अपनेपन की प्रिय,मैं नहीं चाहता कोई वर्णन कोई परिभाषा हो ||
                       मेरे जीवन की सुप्त चेतना ,                         तेरे नयनो में होती विम्बित |                         मेरा पथ आलोकित करती ,                         तेरे संग की मीठी स्मृति || इससे ज्यादा इस सुप्त ह्रदय में मैं नहीं चाहता बाकी कोई भी अभिलाषा हो ||                          बस मेरे मानस अम्बर पर,                          काले मेघों सी छा जाना ||                           जीवन के मेरे मरू-थल में ,                          इक बार प्रिये तुम आ जाना || ये दग्ध ह्रदय अपना , मैं नहीं चाहता  , प्रिय ,चिर विरही चातक प्यासा हो ||                           मेरे मानस आले में तुम हो,                            प्राणों में प्रिय तुम्ही शेष ||                           है अंतिम बार यही इच्छा ,                          देखू जी भर कर तुम्हे निमेष|| हो ध्येय पूर्ण यह जीवन का,मई नहीं चाहता बाकि कोई भी इच्छा,आशा हो ||                          मौन अधर के प्रश्न सुन सको,                          मूक नयन से प्रत्युत्तर दो प्रिय||     …

Popular posts from this blog

minister ananth kumar ananth kumar death holiday ananth kumar holiday

भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा आकांक्षा यादव को ‘’डा. अम्बेडकर फेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान-2011‘‘

तू ही रहे साथ मेरे

देश के भविष्य