मैं सपने देखता हूँ......ब्रजेश सिंह

मैं सपने देखता हूँ
हाँ मैं भी सपने देखता हूँ
कभी जागते हुए कभी सोते हुए
कभी पर्वतों से ऊंचे सपने
कभी गुलाब से हसीं सपने
कभी खुद को समझने के सपने
कभी खुद को जीतने के सपने
कभी खुद को हारने के सपने
मैं हर तरह के सपने देखता हूँ
मैं हर रंग हर आकार हर हर स्वाद के सपने देखता हूँ
कभी नीले कभी गुलाबी कभी
कभी तीखे कभी मीठे
कभी छोटे कभी बड़े
मैं हर तरह के सपने देखता हूँ

मेरे सपने बहूत जल्दी टूट टूटे हैं
और बिखर जाते हैं
मेरे सपने कांच की तरह होते हैं
एकदम साफ़ और पारदर्शी
दिख जाते है सबको मेरे सपने
मैं छिपाकर नहीं रख पाता इनको
इसलिए लोग खेलने लगते हैं इनसे
और टूट जाते हैं मेरे सपने खेल खेल में
मैं कोशिश करता हूँ इन्हें फिर से सजाने की
पर चुभ जाते हैं मेरे ही सपनो के महीन टूकड़े
और मैं दर्द से तड़पता रहता हूँ

मुझे अफ़सोस नहीं होता
जब ये सपने टूटते हैं
अब आदत हो गयी हैं इनके टूटने की
अब तो अधूरा सा लगता है
जब नहीं टूटता है कोई सपना
मन व्याकुल हो जाता है जब नहीं मिलता है सुनने को वो आवाज
जो पैदा होती है इनके टूटने पर

मैं हर वक़्त सपने देखता हूँ
मैं देखना चाहता हूँ उन चीजों को सपनो में
जिन्हें मैं हकीकत में चाह कर भी नहीं देख सकता

मैं सपनो में तितलियों को देखता हूँ
रंग बिरंगी, अनगिनत तितलियों को
पता नहीं कहाँ से आती हैं ये तितलियाँ
और फिर भरने लगती है रंग मेरी कोरी ज़िन्दगी में
पर अचानक! एक एक कर मरने लगती हैं ये तितलियाँ
और दब जाती हैं मेरी ज़िन्दगी इनकी लाशों तले
और टूट जाता है मेरा सपना रंगों का
ज़िन्दगी रह जाती है यूँ हीं श्वेत श्याम

मैं देखता हूँ सपनों में खुद को
एक निर्जन टापू पर
बेतहाशा दौड़ते हुए
कुछ ढूंढते हुए
मुझे दिखाई देता है सपने में
मेरा झून्झालाया सा चेहरा
मुझे दिखाई देती है एक प्यास मेरी आँखों में
तभी दिखता है दूर मुझे एक जहाज
और मैं चिल्लाता हूँ
खुश हो जाता हूँ की
आ रहा है एक जहाज
जो मुझे ले जाएगा मुझे अपने घर तक
लेकिन डूब जाता है ये जहाज
मेरे पास पहुँचने से पहले
और एक चीख के साथ टूट जाता है मेरा सपना

इसी तरह क्रम जारी है सपने सजाने का
और टूटने का
लेकिन मैं सजाता रहूँगा सपने
और पूरा भी करूंगा
क्यूंकि अभी तक किसी सपने में
दबी है मेरी ज़िन्दगी
उन तितलियों के लाशों तले
रंग भरना है ज़िन्दगी में
इसलिए मैं सपने देखूंगा
मैं देखूंगा सपने
और पूरा भी करूंगा
क्यूंकि मैं अबतक भटक रहा हूँ
उसी निर्जन टापू पर
एक जहाज के इंतज़ार में
मुझे पहुंचना है घर तक
मुझे करना है है सपना

Comments

Popular posts from this blog

minister ananth kumar ananth kumar death holiday ananth kumar holiday

भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा आकांक्षा यादव को ‘’डा. अम्बेडकर फेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान-2011‘‘

तू ही रहे साथ मेरे

देश के भविष्य