Posts

Showing posts from March, 2011

बेटी को भी जन्मने दो

मचल रही तो दिल में धड़कन,
उसको जीवन पाने दो।
होंठों की कोमल मुस्कानें,
गुलशन में खिल जाने दो।

नन्हा सा, मासूम सा कोमल,
गुलशन में है फूल खिला।
पल्लवित-पुष्पित होकर उसको,
जहाँ सुगन्धित करने दो।

खेले, कूदे, झूमे, नाचे,
चह भी घर के आँगन में।
चितवन की चंचलता में,
स्वर्णिम सपने सजने दो।

मानो उसको बेटों जैसा,
आखिर वह भी बेटी है।
आने वाली मधुरम सृश्टि,
उसके आँचल में पलने दो।

धोखा है यह वंश-वृद्धि का,
जो बेटों से चलनी है।
वंश-वृद्धि के ही धोखे में,
बेटी को भी जन्मने दो।

भारत विश्वकप जीतेगा...........पाकिस्तानी खिलाडियों पर जासूस छोडे जा चुके

बाला साहेब ठाकरे की तात्कालिक प्रतिक्रिया प्रधानमन्त्री पर व्यंग कर रही है कि अगर पाकिस्तान के प्रधानमन्त्री यूसुफ रजा गिलानी को भारत और पाकिस्तान के मध्य मोहाली मे ३० को खेले जाने वाले सेमीफायनल के लिए आमन्त्रित कर सकते है तो २६/११ मुम्बई बम बिस्फोट के अभियुक्त कसाब और जनवरी २००३ संसद पर हुए आतंकी हमले के दोसी अफजल गुरु को भी बुलाना गलत नही होगा ................ठाकरे शायद यह भूल रहे हैं कि किसी भी समस्या का हाल बातचीत से ही हो सकता है ...वर्ना मुम्बई मे केवल मराठी ही रह्ते .......जंग के दम पर राज्य और भूमी जीती जा सकती है दिल नही ....इसलिए तोडफोड से आगे सोचिए ठाकरे साहब ........यूं टर्न. ....... भारत विश्वकप जीतेगा ...........रिकी पोंटिंग (कप्तान आस्ट्रेलिया)..... हाँ वो इसलिए क्युंकी पाकिस्तानी खिलाडियों पर जासूस छोडे जा चुके हैं............ .........

क्या सच में तुम हो ??----मिथिलेश

Image
देखता लोगों को करते हुए अर्पित फूल और माला दूध और मेवा
और न जाने क्या-क्या हाँ तब जगती है एक उम्मीद कि शायद तुम हो पर जैसे ही लांघता हूँ चौखट तुम्हारा तार-तार हो जाता है विश्वास मेरा टूट जाता है समर्पण तुम्हारे प्रति जब देखता हूँ कंकाल सी काया वाली उस औरत को जिसके स्तनों को मुँह लगाये उसका बच्चा कर रहा था नाकाम कोशिश अपनी क्षुधा मिटाने को हाँ उसी चौखट के बाहर लंबी कतारे भूखे और नंगो की अंधे और लगड़ों की..... वह जो अजन्मी
खोलती आंखे कि इससे पहले
दूर कहीं सूनसान में
दफना दिया जाता है उसे
फिर भी खामोश हो तुम.....
एक अबोध जो थी अंजान इस दुनिया दारी से उसे कुछ वहशी दरिंदे रौंद देते है
कर देते हैं टुकड़े- टुकड़े अपने वासना के तले करते हैं हनन मानवता और तुम्हारे विश्वास का........ तब अनवरत उठती वह चीत्कार
खून क़ी वे निर्दोष छींटे
करुणा से भरी वह ममता
जानना चाहती है
क्या सच में तुम हो ??????

चंद सवालात {गजल} सन्तोष कुमार "प्यासा"

ए महबूब ! फिर कर रहा, ये नादाँ, वही पुरानी बात तुझसे
कौंधते है जो ज़हेन में, पूंछने है वही चंद सवालात तुझसे
कब पहुंचेगी अर्सा-ए-दहर की तपिश में ठण्ढक
अभी क्या देर है, वस्ल-ए-सब को, आखिर कब होगी मुलाकात तुझसे
क्यूँ भटकता दर-बदर आरजू-ए-काफिला दिल का
कब पाएगी ये बेजाँ रूह, नूर-ए-हयात तुझसे
तेरे इश्क की मीरास है, फिर क्यूँ माजूर हूँ मै
भला कब पाएगी बुझती शमाँ, दरख्शां सबात तुझसे
****************************************
***********
(अर्सा-ए-दहर= संसार का मैदान, वस्ल-ए-सब= मिलन की शाम, नूर-ए-हयात= जीवन का उजाला, मीरास= धरोहर ,  दरख्शां=चमकने वाला, चमकीला )

होली की हार्दिक बधाई ............हिंदी साहित्य मंच

Image
मन में उमंग मिल गए रंग में रंग सब मिल रहे गले सब प्रेम से भरे

जीवन {कविता} सन्तोष कुमार "प्यासा"

जीवन क्या है ?
सुख का आभाव
या दुःख की छाँव
या के प्रारब्ध के हाँथ की कठपुतली
हर क्षण अपने इशारो
पर नचाती है
किसके हाथ में है
जीवन की डोर ?
**************************
जीवन उसी का है
जो इसे समझ सके
तेरे हांथों में है
तेरे जीवन की डोर
ये नहीं महज
प्रारब्ध का मेल,
ये
है
सहज-पर-कठिन खेल
भाग्य की सृष्टि
निज कर्मो से होती है
जीवन तेरे हांथों में
जैसी चाहे वैसी बना
हाँ, जीवन एक खेल है
"प्यासा" हार जीत का शिकवा
मत कर
खेले जा, खेले जा
खेले जा..................................

लहर {कविता} सन्तोष कुमार "प्यासा"

तुम्हे याद है हम दोनों पहले यहाँ आते थे

घंटो रेत पर बैठ कर,

एक दूसरे की बातों में खो जाते थे

तुम घुटनों तक उतर जाती थी सागर के पानी में

और मै किनारे खड़ा तुम्हे देखता था

पहले तो तुम बहुत चंचल थी

लेकिन अब क्यों हो गई हो

समुद्र की गहराई की तरह शांत

और मै बेकल जैसे समुद्र में उठती लहर...

मेरा जीवन तो शबनम है----(गजल)---श्यामल सुमन

सूरत पे आँखें हरदम है
तेरे भीतर कितना गम है

निकलो घर से, बाहर देखो
प्रायः सबकी आँखें नम है

समझ सका दुनिया को जितना
मेरा गम कितनों से कम है

जितना तेज धधकता सूरज
दुनिया में उतना ही तम है

मुझको चाहत नहीं मलय की
मेरा जीवन तो शबनम है

सब मिलकर के चोट करोगे?
क्योंकि लोहा अभी गरम है

होश में सारे परिवर्तन हों
सुमन के भीतर में संयम है

क्षणिकाएं--------(वीनस)

निपटा जल्दी जल्दी
दुनियाभर के किस्से
घर- काम की बातें
खिड़की की देहलीज़ पर
रोज़ हाल ए दिल कहते सुनते हैं
मैं और चाँद !
***********

रात सरक सरक के काटें
ख़ामोशियों की राह बांचें
पल पल ढलते जाएँ
फिर भी नित रोज़ आयें
मैं और चाँद !

कैसे बताये हम----------(कविता)---संगीता मोदी "शमा"

कैसे बताये हम प्यार की गहराई को ,
आकर के आँखों में देख लो हमारी,
जो जानना चाहो चाहत की इन्तहा ,
अश्को से हमारे आकर पूछ लो,
तडपता है ये दिल किस तरह तुम्हारे लिए ,
ये मसंद मेरा बता देगा तुम्हे ,
और यकीं जो तुम्हे ना इन पर हो तो ,
दिल पर हाथ रखकर अपने दिल से पूछ लो.

Popular posts from this blog

minister ananth kumar ananth kumar death holiday ananth kumar holiday

भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा आकांक्षा यादव को ‘’डा. अम्बेडकर फेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान-2011‘‘

तू ही रहे साथ मेरे

देश के भविष्य