ऐ दर्द न सता मुझे-----(गजल)----दिलबाग विर्क

किस बात की दे रहा सज़ा मुझे
है क्या गुनाह मेरा , बता मुझे .

हिम्मत नहीं अब और सहने की
रुक भी जा , ऐ दर्द न सता मुझे .

या खुदा ! अदना-सा इंसान हूँ
टूट जाऊँगा , न आजमा मुझे .

क्यों चुप रहा उसकी तौहीन देखकर
ये पूछती है , मेरी वफा मुझे .

आखिर ये बेनूरी तो छटे
किन्ही बहानों से बहला मुझे .

एक अनजाना सा खौफ हावी है
अब क्या कहूँ 'विर्क' हुआ क्या मुझे

Comments

Popular posts from this blog

minister ananth kumar ananth kumar death holiday ananth kumar holiday

भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा आकांक्षा यादव को ‘’डा. अम्बेडकर फेलोशिप राष्ट्रीय सम्मान-2011‘‘

तू ही रहे साथ मेरे

देश के भविष्य