हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

पर्यावरण दिवश {कविता} सन्तोष कुमार "प्यासा"

>> रविवार, 5 जून 2011


आओ सब मिल जुल कर

एक संकल्प में बंध जाएं

वृक्षारोपण कर पर्यावरण  दिवस मनाएं

इस धरा पुन: वसुंधरा बनाएं

शुद्ध, वायु से शुद्ध, जल से

शुद्ध मृदा से पर्यावरण को सजाएं

इस दिन को कभी न  भूलें

कदम कदम पर वृक्ष लगा कर

हर दिन "पर्यावरण  दिवस" मनाएं

मृदा, वायु, जल को , कर प्रयास

अमृतमय बनाएं

सब मिल जुल कर एक ही गीत गाएं

पर केवल गीत न गाएं

निज प्रयास से, इस संकल्प को सार्थक बनाएं

आओ सब मिल जुल कर

एक संकल्प में बंध जाएं

वृक्षारोपण कर पर्यावरण  दिवस मनाएं...

2 comments:

प्रवीण पाण्डेय 6 जून 2011 को 9:12 am  

सार्थक संकल्प, सुन्दर कविता।

Hindi Sahitya 12 मार्च 2012 को 10:30 am  

संतोष कुमार jee bahut achccha likhaa hai


by
Hindi Sahitya
(Publish Your Poems Here)

Copyright 2014 Hindi Sahitya Manch, All Rights Reserved. Powered by Blogger & Tech Prevue

Back to TOP