हमारा प्रयास हिंदी विकास आइये हमारे साथ हिंदी साहित्य मंच पर ..

पर्यावरण दिवश {कविता} सन्तोष कुमार "प्यासा"

>> रविवार, 5 जून 2011


आओ सब मिल जुल कर

एक संकल्प में बंध जाएं

वृक्षारोपण कर पर्यावरण  दिवस मनाएं

इस धरा पुन: वसुंधरा बनाएं

शुद्ध, वायु से शुद्ध, जल से

शुद्ध मृदा से पर्यावरण को सजाएं

इस दिन को कभी न  भूलें

कदम कदम पर वृक्ष लगा कर

हर दिन "पर्यावरण  दिवस" मनाएं

मृदा, वायु, जल को , कर प्रयास

अमृतमय बनाएं

सब मिल जुल कर एक ही गीत गाएं

पर केवल गीत न गाएं

निज प्रयास से, इस संकल्प को सार्थक बनाएं

आओ सब मिल जुल कर

एक संकल्प में बंध जाएं

वृक्षारोपण कर पर्यावरण  दिवस मनाएं...

Copyright 2014 Hindi Sahitya Manch, All Rights Reserved. Powered by Blogger & Tech Prevue

Back to TOP